Home न्यूज़ ड्रग माफिया Pablo Escobar: बेशुमार दौलत, परिवार और मौत की कहानी

ड्रग माफिया Pablo Escobar: बेशुमार दौलत, परिवार और मौत की कहानी

by Aajtalk
53 views
pablo escobar

ड्रग माफिया Pablo Escobar: बेशुमार दौलत, परिवार और मौत की कहानी

बर्नार्ड अर्नाल्ट, एलन मस्क, और जेफ बेजोस जैसे दुनिया के सबसे अमीर लोगों में एक और नाम शामिल था, जो आज हमारे बीच नहीं है। यह शख्स पाब्लो एमिलियो एस्कोबार गैविरिया था, जिसे Pablo Escobar के नाम से जाना जाता था। ड्रग माफिया के तौर पर मशहूर, पाब्लो को ‘किंग ऑफ कोकेन’ कहा जाता था। 2 दिसंबर 1993 को, 44 साल की उम्र में पाब्लो की मौत हो गई थी। उसकी संपत्ति का अनुमान 30 बिलियन डॉलर, यानी 2.19 लाख करोड़ रुपये, था। आज की तारीख में यह राशि लगभग 4.31 लाख करोड़ रुपये होती। पाब्लो के पास इतनी दौलत थी कि उसके नोट चूहे और दीमक खा जाया करते थे। उसके पास दुनिया भर में 800 से ज्यादा घर थे।

पिता का दर्द

एक कहानी जो अक्सर सुनाई जाती है, वह यह है कि पाब्लो की बेटी बीमार थी और ठंड से बचाने के लिए उसने लाखों रुपये जलाकर उसे गर्म रखने की कोशिश की। फिर भी वह अपनी बेटी को बचा नहीं सका। यह घटना सच मानी जाती है और दिखाती है कि पाब्लो अपनी बेटी के लिए कितना प्यार करता था।

अपनी जेल बनवाई

1970 के दशक में पाब्लो ने कोकेन के अवैध कारोबार में कदम रखा। उसकी ताकत इतनी थी कि उसने सरकार पर दबाव डालकर अपने लिए एक खास जेल बनवाई। इस जेल में फाइव स्टार होटल जैसी सभी सुविधाएं थीं, और पुलिस को कुछ किलोमीटर तक आने की इजाजत नहीं थी। लोग कहते हैं कि वह जेल कम और क्लब ज्यादा थी। अगर पाब्लो सिर्फ अपने पैसे गिनता रहता, तो शायद बच सकता था।

दीमक और चूहे खा जाते थे नोट

फोर्ब्स मैगजीन ने पाब्लो को दुनिया के 10 सबसे अमीर लोगों में शामिल किया था। अमेरिका में सप्लाई होने वाले कोकीन के 80% हिस्से पर पाब्लो का नियंत्रण था। उसके पास हाथी, दुर्लभ पक्षी, जिराफ और दरियाई घोड़े जैसे जानवरों वाला अपना चिड़ियाघर था। कैरिबियन द्वीप पर उसने एक महल बनाया था, जिसमें बुलेटप्रूफ खिड़कियां, स्विमिंग पूल और हेलिकॉप्टर लैंडिंग पैड थे। पाब्लो के पास इतना पैसा था कि चूहे उसे कुतर देते थे और दीमक चाट जाते थे। उसके पास फ्लोरिडा के मियामी बीच पर 6500 वर्ग फीट का बंगला था।

राष्ट्रपति बनने का सपना

पाब्लो के परिवार में पत्नी मारिया विक्टोरिया हेनाओ, बेटा सेबास्टियन मारोक्वीन और बेटी मैनुएला एस्कोबार थे। पाब्लो जज, नेता, पत्रकार और विरोधी माफिया को आसानी से मरवा देता था। उसके ऊपर अवैध ड्रग तस्करी, हत्या, बमबारी, रिश्वत देने, रैकेट चलाने और सामूहिक हत्याकांड के केस चल रहे थे। उसने पैसेंजर से भरी फ्लाइट तक को उड़वा दिया था। उसका सपना कोलंबिया का राष्ट्रपति बनने का भी था। उसके हिटमैन जॉन जायरो वेलाजेक्वेज उर्फ पोपये ने उसके कहने पर 300 लोगों की हत्या की थी। अपराध की दुनिया में पाब्लो को डॉन पाब्लो, सर पॉब्लो, द गॉडफादर और द बॉस के नाम से भी जाना जाता था।

पाब्लो एस्कोबार के बारे में कुछ ऐसे दिलचस्प तथ्य हैं, जिन्हें जानकर आप हैरान रह जाएंगे। एस्कोबार अपनी मृत्यु के दो दशक बाद भी काफी प्रसिद्ध रहा, जिसका श्रेय उस पर लिखी गई अनगिनत किताबों, फिल्मों, और गानों को जाता है। आइए जानते हैं उसके जीवन से जुड़े कुछ रोचक तथ्य:

सत्ता में वृद्धि

एस्कोबार का जन्म एक किसान और एक स्कूल शिक्षक के बेटे के रूप में हुआ था। किशोरावस्था में ही उसने अपराध का जीवन शुरू कर दिया। उसकी पहली अवैध योजना नकली डिप्लोमा बेचना थी। इसके बाद, उसने स्टीरियो उपकरणों की तस्करी, कब्रों के पत्थरों की चोरी और रिपोर्ट कार्डों में हेराफेरी का काम किया। एस्कोबार ने कारें भी चुराईं और इस अपराध के कारण 1974 में उसकी पहली गिरफ्तारी हुई। इसके तुरंत बाद, वह एक स्थापित ड्रग तस्कर बन गया और 1970 के दशक के मध्य तक मेडेलिन कार्टेल के निर्माण में मदद की।

देश का कर्ज चुकाने जितना पैसा

मेडेलिन कार्टेल ने कोकीन व्यापार पर प्रभुत्व जमाया, प्रति सप्ताह $420 मिलियन कमाए और एस्कोबार को दुनिया के सबसे धनी लोगों में से एक बना दिया। $25 बिलियन की संपत्ति के साथ, एस्कोबार ने निजी विमान, शानदार घर और शानदार पार्टियाँ खरीदीं। 1980 के दशक के उत्तरार्ध में, उसने अपने देश के $10 बिलियन के कर्ज का भुगतान करने की पेशकश की, बशर्ते उसे किसी भी प्रत्यर्पण संधि से छूट मिले। अपने भागते समय, उसने अपनी बेटी को गर्म रखने के लिए $2 मिलियन जला दिए। अपने अत्यधिक प्रयासों के बावजूद, एस्कोबार वह सारा पैसा खर्च नहीं कर सका, और इसका अधिकांश हिस्सा गोदामों और खेतों में संग्रहीत किया गया था। उसके भाई के अनुसार, लगभग 10% या $2.1 बिलियन प्रतिवर्ष बट्टे खाते में डाल दिया जाता था, क्योंकि चूहे और दीमक इसे नष्ट कर देते थे।

एक घर में पूरी दुनिया बसाई

एस्कोबार के पास कई आलीशान घर थे, लेकिन सबसे चर्चित संपत्ति बोगोटा और मेडेलिन के बीच स्थित 7,000 एकड़ की हैसिंडा नेपोल्स है। $63 मिलियन की इस संपत्ति में एक फुटबॉल मैदान, डायनासोर की मूर्तियाँ, कृत्रिम झीलें, बुलफाइटिंग क्षेत्र, एक हवाई पट्टी, टेनिस कोर्ट और एक चिड़ियाघर शामिल थे। इस संपत्ति के दरवाजे के ऊपर पाब्लो ने वह विमान रखवाया था, जिसका उपयोग उसने अमेरिका में अपनी पहली ड्रग यात्रा के दौरान किया था। अब यह सम्पत्ति एक लोकप्रिय पर्यटक स्थल है।

निजी चिड़ियाघर

एस्कोबार का निजी चिड़ियाघर हाथी, शुतुरमुर्ग, ज़ेबरा, ऊंट और जिराफ़ सहित लगभग 200 जानवरों का घर था। इनमें से कई जानवरों को ड्रग विमानों में तस्करी कर लाया गया था। 1993 में एस्कोबार की मृत्यु के बाद, अधिकांश जानवरों को चिड़ियाघरों में स्थानांतरित कर दिया गया, लेकिन चार दरियाई घोड़े पीछे रह गए। जल्द ही उनकी संख्या बढ़ गई और 2016 तक 40 से अधिक हो गए।

रॉबिन हुड

पाब्लो एस्कोबार ने गरीबों के लिए अस्पताल, स्टेडियम और आवास बनाए, और स्थानीय फ़ुटबॉल टीमों को प्रायोजित किया, जिससे उसे “रोबिन हुड” का नाम मिला। 1982 में, उन्हें देश की कांग्रेस में एक वैकल्पिक सीट के लिए चुना गया। हालांकि, उनकी आपराधिक गतिविधियाँ इतनी व्यापक और संगीन थीं कि दो साल बाद, एक न्याय मंत्री ने उनके खिलाफ अभियान चलाया और उसे इस्तीफा देने के लिए मजबूर होना पड़ा। इस मंत्री की बाद में हत्या कर दी गई थी।

“प्लाटा ओ प्लोमो” यानी चांदी या सीसा

एस्कोबार ने अपने विरोधियों को रिश्वत या हत्या की धमकी देकर नियंत्रित किया। उसका जुमला था, “प्लाटा ओ प्लोमो” यानी “चांदी” या “सीसा”। उसने रिश्वत देने को प्राथमिकता दी, लेकिन हत्या से भी गुरेज नहीं किया। उसने लगभग 4,000 लोगों की हत्या की, जिसमें कई पुलिस अधिकारी और सरकारी अधिकारी शामिल थे। 1989 में, उसने सौ लोगों से भरे विमान को बम से उड़ा दिया था।

खुद की जेल खुद बनाई

1991 में एस्कोबार ने आत्मसमर्पण किया, लेकिन अपनी जेल खुद बनाने की शर्त पर। कोलंबियाई अधिकारियों ने इस शर्त को मान लिया। उसकी जेल “ला केट्रेडल” में एक नाइट क्लब, सौना, झरना, फुटबॉल मैदान, टेलीफोन, कंप्यूटर और फैक्स मशीनें थीं। लेकिन जब उसने जेल में कार्टेल के दो सदस्यों को मार डाला, तो अधिकारियों ने उसे दूसरी जेल में स्थानांतरित करने का निर्णय लिया। ट्रांसफर के दौरान, एस्कोबार जुलाई 1992 में भाग गया।

और दहशत का अंत

एस्कोबार के भागने के बाद, कोलंबियाई सरकार ने बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान चलाया। 1 दिसंबर 1993 को, एस्कोबार ने केक, वाइन और मारिजुआना का आनंद लेते हुए अपना 44वां जन्मदिन मनाया। अगले दिन, मेडेलिन में उसके ठिकाने का पता चला और कोलंबियाई सेना ने इमारत पर धावा बोला। एस्कोबार और एक अंगरक्षक छत पर चढ़ने में कामयाब रहे, लेकिन गोलीबारी में एस्कोबार मारा गया। कुछ लोगों का मानना है कि उसने खुद अपनी जान ली थी, क्योंकि उसने कहा था कि वह “अमेरिका में जेल की कोठरी के बजाय कोलंबिया में अपनी कब्र चाहता है।

अगर आपको ये न्यूज़ पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें. Ajtalk.com को अपना बहुमूल्य समय देने के लिए धन्यवाद।

You may also like

Leave a Comment

About Us

AajTalk: Hindi news (हिंदी समाचार) website, watch live tv coverages, Latest Khabar, Breaking news in Hindi of India, World, Sports, business, film and Entertainment. आज तक पर पढ़ें ताजा समाचार देश और दुनिया से, जाने व्यापार …

@2024 – All Right Reserved. Designed and Developed by Talkaaj